Are Condoms 100% effective & safe?

कंडोम भी दे सकता है दगा, 100% सुरक्षित नहीं!

98% सुरक्षित है कंडोम

tips-and-myths

आमतौर पर सेक्स के दौरान कंडोम के इस्तेमाल को सबसे सुरक्षित माना जाता है। इसके साथ ही कंडोम को प्रेगनेंसी से बचने और यौन सं‌क्रमित रोगों से बचने के लिए भी बेस्ट माना जाता है।

लेकिन एक्सपर्ट कंडोम को 98 फीसदी कामयाब मानते हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या कंडोम से 2 फीसदी प्रेगनेंट होने या फिर इंफेक्‍शन का खतरा रहता है। आइए जानें, इस बारे में क्या कहते हैं एक्सपर्ट।

इंफेक्‍शन होना आम बात है

Condom

डॉक्टर्स कहते हैं कि वैजाइना में बैक्टीरियल इंफेक्‍शन होना आम बात है। वैजाइना में फंगल इंफेक्‍शन होना, खुजली की समस्या होना, पीरियड्स के दौरान इंफेक्‍शन होना और डिस्चार्ज से इंफेक्‍शन होना आम बात है। वैसे तो कंडोम क्वालिटी टेस्टेड होता है लेकिन यदि यदि अच्छी क्वालिटी का कंडोम इस्तेमाल ना किया जाए तो इंफेक्‍शन की आशंका बढ़ जाती है।

इतना ही नहीं, कंडोम का सही से इस्तेमाल ना किया जाए तो भी इंफेक्‍शन हो सकता है।

इन कारणों से कंडोम हो सकता है असुरक्षित

are-condoms-100-effective

डॉक्टर्स कहते हैं यूं तो कंडोम को क्वालिटी टेस्ट करके बनाया जाता है लेकिन कंडोम एक्सपायर हो चुका हो और बिना तारीख जांचे इसका इस्तेमाल किया जाए तो ये असुरक्षित हो सकता है।

डॉक्टर्स ये भी कहते हैं यदि कंडोम के पैकेट की सील खुली हुई है तो उसमें बैक्टीरिया जाने की संभावना हो सकती है। इससे भी इंफेक्‍शन हो सकता है।

कंडोम को गर्म चीज और तेज रोशनी के आगे रखने से ये कमजोर हो सकता है और आखिर वक्त पर ये ब्रेक हो सकता है। जो कि आपके और आपके पार्टनर के लिए असुरक्षित होगा।

कंडोम के इस्तेमाल से पहले ध्यान दें

are-condoms-100-effective

कंडोम के इस्तेमाल से पहले सबसे पहले उसकी एक्सपायरी डेट चैक करें। साथ ही कंडोम के प्रयोग से पहले जांच लें कि वो कहीं से कटा-फटा ना हो।

इतना ही नहीं, कंडोम खरीदते समय उसकी क्वालिटी का खास ध्यान रखें। इसके साथ ही आपके पार्टनर को कौन सा कंडोम ज्यादा सूटेबल लगता है इस बात का भी ध्यान रखें।

डॉटेड कंडोम से भी कई लोगों को इंफेक्शन हो सकता है इसलिए पार्टनर की राय लेकर ही डॉटेड कंडोम का इस्तेमाल करें।

दरअसल, आजकल कई कलर्ड और लुब्रिकेंट लैस कंडोम भी आ गए हैं। ऐसे में संभव है कि आपकी पार्टनर को खुशबुदार कंडोम ना भाता हो या फिर उन्हें तेज खुशबू से एलर्जी हो।

कई महिलाओं को और पुरुषों को भी लेटेक्स से एलर्जी होती है तो लेटेक्ट कंडोम ना खरीदें। ये भी ध्यान रखें ‌कि कंडोम के इस्तेमाल के साथ वाटर बेस्ड लुब्रिकेंट का ही इस्तेमाल करें। किसी भी तरह का लोशन, जैली या बेबी ऑयल कंडोम को क्रैक कर सकता है।

ऐसे इस्तेमाल करें कंडोम

myths-about-condoms-and-other-forms-of-contraception

कंडोम को पर्स में और पॉकेट में रखने से बचें। इससे कंडोम खराब हो सकता है। इससे कई बार कंडोम की क्वालिटी खराब हो जाती है और सेक्स के दौरान वैजाइना में फटने का डर रहता है।

कंडोम के पैकेट को इस्तेमाल के दौरान ही खोले, समय से पहले इसे ना खोलें, इसमें बैक्टीरिया जा सकते हैं। कंडोम को सेक्स के दौरान ही इस्तेमाल करें, समय से पहले इसे लिंग पर ना चढ़ाएं। इतना ही नहीं, कंडोम को हाथ में ना रखें बल्कि सीधे पेनिस पर चढ़ाए।

ये भी ध्यान रखें कि कंडोम के पैकैट कभी भी दांत या किसी नुकीली चीज से न फाड़े।

एक बार इस्तेमाल के बाद कंडोम को फेंक दे, उसे धोकर दोबारा इस्तेमाल ना करें।

अगर कंडोम में किसी कारण हवा भर जाए तो उसका इस्तेमाल नहीं करें वरना वैजाइना में ही फटने का डर रहता है।

अगर महिला पार्टनर फीमेल कंडोम का इस्तेमाल कर रही है तो पुरुष कंडोम का इस्तेमाल ना करें।

डिस्‍चार्ज होने के तुरंत बाद कंडोम का ध्यान से निकाल कर फेंक दें।

एक बात का खास ध्यान रखें, यदि आपको अहसास हो गया है कि कंडोम सेक्स के दौरान लीक करने लगा है तो अपनी पार्टनर को बिना देर किए इमरजेंसी पिल दें। साथ ही डॉक्टर की सलाह पर यौन सं‌क्रमित इंफेक्‍शन की जांच करवाएं।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s