बुखार में दवाओं के बगैर भी देसी नुस्‍खों से मिल सकती है राहत

मौसम में बदलाव हो या फिर शरीर का तापमान गड़बड़ा गया हो , हम बुखार का शिकार होते ही रहते हैं. कई बार ये हमारी लापरवाही का भी परिणाम होता है.

वैसे तो बुखार हो या खांसी, हमें डॉक्टर के पास जाने की आदत पड़ गई है. लेकिन कुछ लोगों को दवाइयों और इंजेक्शन से परहेज होता है. ऐसे में कुछ घरेलू नुस्खे हमारे काम आ सकते हैं. जो बुखार को कम भी करेंगे और आपको राहत भी देंगे. आइए जानते हैं क्या हैं वो नुस्खे :

1 . अगर आपको सर्दी के समय बुखार हुआ है तो अदरक और शहद मिलाकर खाएं. इससे आपको काफी हद तक आराम मिलेगा. या फिर अदरक की चाय बनाकर पीएं.

2 . मुलैठी खाने से भी आपको फायदा मिलेगा. मुलैठी और काली मिर्च को मिलाकर भून लें. इस चूर्ण को पानी के साथ ले लें. उससे बुखार कम हो जाएगा.

Read More:- Tips for Daily Exercise – Simple Health and Fitness Tips

3 . लहसून को आंच पर भूनकर उसे लौंग के साथ खाने से भी बुखार से राहत मिलती है.

4 . एप्पल साइडर विनिगर भी बुखार कम करने के लिए जाना जाता है. यह बुखार को ज्यादा फैलने से भी रोकता है.

5 . तेज बुखार हो तो सिर पर ठंडे पानी की पट्टी रखें. इसके अलावा तुलसी के पत्ते खाए जा सकते हैं.

 

पापड़ खाने के होते हैं बड़े नुकसान, समय रहते हो जाइए सचेत

पापड़ में ज्यादा मसाला और आर्टिफिशियल फ्लेवर मिलाया जाता है जो एसिडिटी और गैस की समस्या को बढ़ावा देता है। अगर आप पापड़ खाते हैं तो इससे आपका पेट खराब हो सकता है।

papad_1473483165

पापड़ बनाते समय उस में प्रिजर्वेटिव का इस्तेमाल होता है। इस प्रिजर्वेटिव में नमक और सोडियम सॉल्ट मिलाया जाता है। इससे पापड़ का स्वाद तो बढ़ जाता है लेकिन ये हमें सेहत से जुड़ी समस्याएं दे जाता है।

papad_1473483088

पापड़ में इस्तेमाल किए गए प्रिजर्वेटिव से किडनी और हार्ट से जुड़ी बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है।

papad_1473483113

पापड़ में दो रोटी के जितनी कैलोरी होती है। इसको खाने से मोटापा बढ़ता है इसलिए अगर आप वजन कम करना चाहते हैं तो पापड़ बिलकुल न खाएं।

health effects of papad

 

इस जूस के मिश्रण से टॉन्सिल से पाइए छुटकारा

टॉन्सिल हमारे शरीर का ही हिस्सा है। ये हमारे गले के अंदर जीभ से लगा होता है। वैसे तो टॉन्सिल से कुछ फर्क नहीं पड़ता है लेकिन अगर इस पार्ट में कोई भी संक्रमण या वायरस आ जाए तो ये बहुत तकलीफ देता है। ये हमारे मुंह के अंदर गले से सटा एक छिद्र होता है। जहां अगर कोई संक्रमण हो जाता है तो सूजन आ जाती है। ऐसे में कुछ भी पीने या खाने में बहुत दिक्कत होती है।

onion-juice-06-09-2016-1473133251_storyimage

वैसे तो डॉक्टर अपनी दवाईयों से इसे ठीक करने की कोशिश करते हैं, लेकिन इसके कई घरेलू उपाय भी हैं, जो ज्यादा लाभकारी हैं। जी हां, शायद आपको नहीं पता होगा कि प्यांज से टॉन्सिल का वायरस चला जाता है।

प्याज का जूस लाभदायक

आज हम आपको बताएंगे कि कैसे आप 7-8 दिन में प्याज के सेवन से टॉन्सिल से छुटकारा पा सकते हैं। प्य़ाज के जूस या मिश्रण के सेवन से टॉन्सिल जल्दी ठीक हो जाती है। प्याज में एंटी बैक्टेरिया है जो टॉन्सिल के कीटाणु नष्ट करने में मदद करता है।

आपके एक प्याज लेना है और जूसर में एक कप प्याज का जूस निकालना है। उसे एक कप गर्म पानी में मिलाएं और फिर उस पानी से तीन से चार बार दिन में गरारे करें। ऐसा आपको 10 दिन करना है। ज्यादा मेहनत का काम नहीं है।

क्यों होती है टॉन्सिल

ठंड या सर्दी के मौसम में टॉन्सिल ज्यादा होती है।
किसी तरह के वायरस या बैक्टेरिया के कारण या खाने की किसी चीज से भी हो सकती है।
ठंडी चीजें खाने से या किसी का गला अगर सेंसेटिव हो तो हो सकती है।
शर्दी, नजला, जुकाम के कारण भी कई बार गला सूज जाता है, टॉन्सिल हो जाती है।
वैसे तो दूध में हल्दी और गोलमिर्च डालकर पीने से काफी आराम मिलता है, लेकिन पूरी तरह से ठीक नहीं होता। क्योंकि आप कुछ भी खा नहीं सकते इस दौरान। ऐसे में आपको गर्म पानी के गरारे ही आराम देते हैं।
Source:- livehindustan